डॉ दिवाकर चौधरी
डॉ दिवाकर चौधरी

डॉ दिवाकर चौधरी

कल्याणी प्रतिभा हो मेरी, मधुर वर्ण-विन्यास न केवल||Copyright@डॉ दिवाकर चौधरी इनकी रचनाओं की ज्ञानविविधा पर संकलन की अनुमति है | इनकी रचनाओं के अन्यत्र उपयोग से पूर्व इनकी अनुमति आवश्यक है |

भूल गया अब याद नहीं

भूल गया अब याद नहीं कुछ मानव को जीवन में अर्थ-अर्थ की दौड़ लगी है जीवन के प्रांगण में भूल रहा मानव मानवता अर्थ-स्वार्थ-चिंतन में

Read More »

स्वप्न

मैंने देखा… हिमकर की उस प्रशांत रात्रि में मन की धवल, तन कोमल-श्यामल चहरे पर मुस्कान मनोहर गाती एक गीत जाती थी मेरे भ्रमित-पथिक मन

Read More »

जीवन

सुख भी जीवन, दुःख भी जीवन सुख में जो हँसी, दुःख में क्रंदन सुख का श्रृंगार है – हास-विलास सुख की शोभा- कामिनी-कंचन दुःख की

Read More »

जाग मनुज अब

जाग मनुज अब हुआ सबेरा विहग-वृन्द ने तरु-वृंत पर निकल नीड़ से डाला डेरा नव-प्रभात की प्रथम किरण में खग-कुल ने मधु गान है छेड़ा

Read More »
Total View
error: Content is protected !!