शोध-पत्र/आलेख

Category: शोध-पत्र/आलेख

इतिहास

‘‘प्राचीन भारतीय समाज में स्त्री की अर्धगत अस्तित्व’’

परिचयः- अनादिकाल से ही पुरूषवादी समाजिक व्यवस्था में स्त्री को दोयम दर्जा प्राप्त हैं। यूँ तो प्रकृति ने स्त्री-पुरूष को समान बनाया, परंतु पुरूषों ने

विस्तार से पढ़ें »
आलेख

सन्ध्या-योग

योग एक प्राचीन भारतीय विद्या है। इसका मूल स्रोत वेदों में प्राप्त होता है, यथा- योगेयोगे तवस्तरं[१], स धीनां योगमिन्वति[२] एवं युज्यमानो वैश्वदेवो युक्तः प्रजापतिर्विमुक्तः

विस्तार से पढ़ें »
आलेख

समसामयिक हिंदी कविता : विविध परिदृश्य

किसी भी देश या प्रदेश के साहित्य के मूल में जनता की चित्तवृत्ति ही होती है। यह चित्तवृत्ति संस्कार, मूल्य तथा आस्था से युक्त होती

विस्तार से पढ़ें »
गद्य–रचनाएँ

समाजवाद, राष्ट्र और चन्द्रशेखर

समाजवाद, राष्ट्र और चन्द्रशेखर – डाॅ. उमेश कुमार शर्मा समाजवादी विचारधारा ने जितनी अधिक हलचल वर्तमान शताब्दी में उत्पन्न की है, उतनी अन्य किसी भी

विस्तार से पढ़ें »
गद्य–रचनाएँ

विद्या और शिक्षा में मौलिक अंतर

हमारे जीवन को सरल, सहज और सफल बनाने में शिक्षा और विद्या दोनों का काफी महत्व है, लेकिन दोनों में कुछ मौलिक अंतर या भेद

विस्तार से पढ़ें »
गद्य–रचनाएँ

नेपाली : प्रकृति चित्रण की संपूर्णता का कवि

प्रकृति का मानव–जीवन में अमूल्य योग रहा है – सृष्टि के आरम्भ से ही | प्रकृति जीवन और साहित्य का प्रमुख उपादान रही है |

विस्तार से पढ़ें »
गद्य–रचनाएँ

पर्यावरण और नेपाली का काव्य

                           गोपाल सिंह ‘नेपाली’ उत्तर छायावाद के प्रतिनिधि कवि हैं | वे प्रेम,प्रकृति और राष्ट्रीयता की गीतिकाव्यधारा के विशिष्ट हस्ताक्षर हैं | इन्होंने आलोचकीय

विस्तार से पढ़ें »
Total View
error: Content is protected !!