बजरंगी लाल
बजरंगी लाल

बजरंगी लाल

Copyright@बजरंगी लाल / इनकी रचनाओं की ज्ञानविविधा पर संकलन की अनुमति है | इनकी रचनाओं के अन्यत्र उपयोग से पूर्व इनकी अनुमति आवश्यक है |

सुनता रहा मैं

सुनता रहा मैं उसकी बोला न ताव में,हर मोड़ पर रहा मैं उसके प्रभाव में।फिर भी मिली है मुझको दर्दे जुदाइयां,जाने वही क्या चल रहा

Read More »

लंका जलाइए(घनाक्षरी)

रावण दुष्ट पापी नीच अथवा कुकर्मी था,उसकी वो सजा पाया,उसे भूल जाइए।आज की दशा को देखो,गली गांव नुक्कड़ में,उठेगी नजर यदि,रावण ही पाइए।होती है गलानि

Read More »

ज्ञान दायिनी हे मातु(घनाक्षरी)

ज्ञान दायिनी हे मातु,वीणा पाणि सरस्वती,दया दृष्टि थोड़ी सी तो,मुझपे दिखाइए।मैं अजान बालक हूं चरणों में मातु तेरेज्ञान चक्षु खोल मेरो मन हरसाइए।धवल वस्त्र धारिणी

Read More »

हे दीनबंधु(घनाक्षरी)

हे दीनबंधु कृपा सिंधु वीर बलदाऊ कै,विनती हमारी प्रभु आप सुन लीजिए।जगत के पाप हरो सबके संताप हरो,आइए प्रभु जी फिर अवतार लीजिए।गीता वाला ज्ञान

Read More »

कब तक पाठ शान्ति का हमको

कब तक पाठ शान्ति का हमको,अभी पढ़ाया जायेगा।कब तक इन पत्थरबाजों से,हमको पिटवाया जायेगा।।कब तक हम अपने ही घर में,अत्याचार सहें बोलो।कब तक करते रहें

Read More »

चाहतें थीं दिल में जो

चाहतें थीं दिल में जो भी,जता न पाए हम कभी,मन तुम्हारा हो गया पर,बता न पाए हम कभी।इश्क़ का इज़हार कर लूं, तुमसे,दिल करता रहा,पर

Read More »

करें बाँहों में बल

करें बाँहों में बल पैदा,सहारा है नहीं कोई, ज़माने में कहीं देखो,तुम्हारा है नहीं कोई| हुई हैवान दुनिया है,मरी इन्सानियत सबकी, खुद ही में डूबकर

Read More »

जो बदन थी

जो बदन थी दोहरी, इकहरी हो गई, ग़मों की धूप से हट जा, दुपहरी हो गई| प्यार उसका अभीतक, भूला नहीं पाया, ऐसा लगता है

Read More »

तन-मन-धन(घनाक्षरी)

तन-मन-धन सब,वार जिस दिन आप,काम कोई करने को,आगे बढ़ जाते हैं।पग-पग पर जब,आ जाए चुनौती कोई,फिर भी न पग आप,पीछे को हटाते हैं।आती परेशानियां हों,

Read More »
Total View
error: Content is protected !!